Shayari: “कल और आज”

नए घर की देहलीज़ लाँघ रही बहू से सास ने कहा

बहू पीहर का सब बाहर ही छोड़ आना

भीतर न लाना

हमारे घर के अपने रिवाज़,

अपने तौर तरीके हैं .

झुकी नजरों से सास की एक हलकी सी झलक लेते हुए

बहू ने सोचा

कितने दिन/बरस लगे होंगे

इन्हें इस घर को अपना कहने में

2 thoughts on “Shayari: “कल और आज”

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.