Tag Archives: Hindi

“perfect” क्या है बस एक ख्याल …

माँ ने इक उम्र पति के ऐबों को छुपाते गुज़ार दी, बेटियाँ अपना पति अपने पिता की तरह “perfect” नहीं, इस एहसास-ए-कमतरी में गुज़ार रही हैं। – रुपाली

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 4 Comments

नमी (moisture in eyes)

मेरे द्वारा खींची एक और तस्वीर के लिए कुछ शब्द – जिंदगी में खुशियाँ कुछ कम नहीं, पर आँखों की नमी है ज्यादा -रुपाली Fellow bloggers please help me translating it in English.

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | 10 Comments

“बूँद” (Tiny raindrops)

मेरे द्वारा खींची एक और तस्वीर के लिए कुछ शब्द – “बूँद” उसकी याद में आसमां फट पड़ा पूरी तरह खाली हो गया सारी बातें, सारी कसमें बह गयी बस यादों के कुछ पल शाखों पर और पत्तों पर ठहर … Continue reading

Posted in Hindi, Others, Photography, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , , , | 9 Comments

मंज़िल को पाने का भ्रम

मेरे द्वारा खींची तस्वीर के लिए कुछ शब्द मंज़िल को पाने का भ्रम: मंज़िलों की कहानी भी अजीब है यारों जो पास आने का अहसास हो तो फ़ौरन बदल जाती है -रुपाली

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , | 8 Comments

जी लो जिंदगी …

जिंदगी छोटी छोटी खुशियों में मुस्कुराती है। जी लो जिंदगी … पूरे चाँद की तमन्ना में न जाने कितनी रातें यूं ही गवां दी। काश की एक झलक में तसल्ली हो जाती। – रुपाली Little pleasures of life: It has … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , | 12 Comments

Hindi shayari: एक आंसू

चित्र और शब्द मेरे हैं बस तेरा एक आंसू काफ़ी था, मेरी सारी दास्तां डुबोने के लिए। -रुपाली

Posted in Hindi, Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 10 Comments

Hindi poetry: सकारात्मक रहें

रविवार के लिए विचार … (शब्द और चित्र मेरे हैं ) जिंदगी के काफ़ी सारे बोझ ज़रा सी देर के लिए होते हैं हमारे विचारों की गर्मी और सही कोशिश इन्हे पिघला देती है। पर न जाने क्यों हम इनकी … Continue reading

Posted in Hindi, Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 10 Comments

मैं, रसोई की खिड़की और चाँद

मेरे द्वारा खींची तस्वीर के लिए कुछ शब्द – मैं, रसोई की खिड़की और चाँद बड़े रौब से कहे कि तनहा है वो रसोई की खिड़की से झाँक कर चाँद चुगली कर गया। -रुपाली

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | Leave a comment

शौक फरमाइए

लिखने की तमन्ना में सब इंतजामात किये फिर कभी यहाँ तो कभी वहाँ बैठे, ख़यालों के समंदर में रवानी थी काफी लफ्ज़ों की कश्ती भी चलती रही बाकी, लहरों की तरह ख़्याल टकराये पर कसम ले लो, हम एक लफ्ज़ भी न … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | 7 Comments

Shayari – शौक

उनकी गली से जो गुजरो, नजरें नीची रखना सुना है आखों से कही से मुकर जाने का शौक है उन्हें। -रुपाली Unki gali se jo gujro, najare nichi rakhna suna hai aakhon se kahi se mukar jane ka shauk hai unhe

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , | 3 Comments