Tag Archives: Life

Shayari: “कल और आज”

नए घर की देहलीज़ लाँघ रही बहू से सास ने कहा बहू पीहर का सब बाहर ही छोड़ आना भीतर न लाना हमारे घर के अपने रिवाज़, अपने तौर तरीके हैं . झुकी नजरों से सास की एक हलकी सी झलक लेते … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | Leave a comment

Mother’s Day Special: माँ भी इंसान है

“माँ”  पर अनगिनत रचनायें रची गयी हैं।   आमतौर माँ  को देवी कहा जाता है या काफी स्टिरिओटाइप बताया जाता है।  लेकिन,   मेरी सोच कुछ अलग है, मेरे लिए माँ एक इंसान है।  शायद इस प्रयास में पद्य की बजाय गद्य ही … Continue reading

Posted in Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , | 3 Comments

Thought for the day!

A man is like a fraction whose numerator is what he is and whose denominator is what he thinks of himself. The larger the denominator, the smaller the fraction. -Leo Tolstoy

Posted in Quote, Uncategorized | Tagged , , , , , | 5 Comments

Nurturing Thursday 127: Ring the bell of hope

I have faith in God and in humanity. Still when I see simple and kindhearted people (let us call this group as K ) suffering most of their lives in the name of fate I get confused and feel regretful. … Continue reading

Posted in Nurturing Thursday, Quote, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , | 20 Comments

Nurturing Thursday 126: Decision

In response to Becca’s Nurturing Thursday

Posted in Nurturing Thursday, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 6 Comments

Nurturing Thursday 125: Patience

For Becca’s Nurturing Thursday

Posted in Nurturing Thursday, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 3 Comments

शहर का हर शख्स जाना पहचाना लगता है।

सुबह की भाग दौड़ है कहीं बसों की दौड़ हैं कहीं गाड़ियाँ रुकीं हैं कहीं हर रस्ता पहचाना लगता है। कहीं उम्मीद तो कहीं उदासी है किसी का पेट भरा हुआ तो कोई खाली है कहीं घाव हरे तो कहीं … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 4 Comments

दस्तक़

उनकी आज़माइशों पर उतरना छोड़ दिया मैंने, यू  कहे सुकून से जीना सीख़ लिया मैंने।  मेरे दिल के दरवाज़े अभी भी खुले हैं, बस उनके दरवाज़े पर दस्तक़ देना छोड़ दिया मैंने।  Unki ajmaisho par utarna chhod diya meine, yu kahe … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 4 Comments

A moment

Savour, until the doors are open.

Posted in Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

खातिर

तुम्हारी खातिर और एक बार बिख़रने को तैयार हूँ मैं, पर उसके लिए पहले खुद को समेटना जरूरी है।  Tumhari khatir aur ek baar bikharne ko taiyar hoon mein, par uske liye pahale khud ko sametna jaruri hai.

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 2 Comments