Random 67: Anthropomorphism

The moon is friend for the lonesome to talk toCarl Sandburg

*****

मुलाकात का समय बीत गया। 

मसरूफ़ियत इतनी बढ़ी की ध्यान ही नहीं रहा। 

फिर न जाने क्या हुआ मैं चाय का कप लिए खिड़की तक आयी। 

सामने देखा तो वो मुस्कुराता दिखा। कुछ कहा नही बस मुस्कुराता रहा। 

मानो पहाड़ों की मखमली बर्फ से बस अभी उठा हो जाने के लिए।

चाहा की रोक लूँ उसे आज।  बस आज के लिए। 

मैं देखती रही उसे चाय का कप लिए। 

वो देखता रहा रुक रुक कर। 

पर वक्त कब किसका हुआ है। 

बस दो पल का साथ हमारा। 

फिर न जाने कब मुलाकात हो।

-रुपाली 

*****

I am not translating the hindi verse beacuse I believe that there is a significant variation in how emotions are expressed across cultures. Carl Sandburg made my point.

Links:

https://www.deccanchronicle.com/lifestyle/culture-and-society/231219/emotions-are-conveyed-differently-in-different-languages.html

Why do people name their plants cars ships and guitars – anthropomorphism may actually signal social intelligence

The mind behind anthropomorphic thinking

Random 66: Warmth

The warmth of flowing water,

love and affection,

melts the ice and unfriendly souls,

in due course.

*****

बहता पानी चाहे कितना ही ठंडा क्यों ना हो,

बर्फ को ही पिघला देता है। 

इंसान कितना ही कठोर, नीरस क्यों न हो,

प्रेम और अपनाइयत उसे वक्त रहते बदल देती हैं ।

-रुपाली 

Random 64: A view for free

I don’t have to chase extraordinary moments to find happiness – it’s right in front of me if I am paying attention and practicing gratitude ~Brene Brown

I miss Nurturing Thursdays. I hope Becca Givens is doing fine.

*****

झरना बहता रहा। 

पत्ते रंग बदलते रहे। 

हम किताबों में उलझे,

जिंदगी के मायने ढूंढते रहे। 

-रुपाली 

Random 61: Focus

Whenever you want to achieve something, keep your eyes open, concentrate and make sure you know exactly what it is you want. No one can hit their target with their eyes closed.~ Paulo Coelho

वसंत का एक अकेला भंवरा,

बस कुछ पलों में… 

अपनी धुन से – लगन से,

जिंदगी का गीत,

गुनगुना सीख गया। 

~रुपाली