Tag Archives: Poetry

नमी (moisture in eyes)

मेरे द्वारा खींची एक और तस्वीर के लिए कुछ शब्द – जिंदगी में खुशियाँ कुछ कम नहीं, पर आँखों की नमी है ज्यादा -रुपाली Fellow bloggers please help me translating it in English.

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | 10 Comments

Apple blossoms

An apple tree stands alone for years. Produces blossoms and apples. No one cares but birds and bees.

Posted in Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 4 Comments

“बूँद” (Tiny raindrops)

मेरे द्वारा खींची एक और तस्वीर के लिए कुछ शब्द – “बूँद” उसकी याद में आसमां फट पड़ा पूरी तरह खाली हो गया सारी बातें, सारी कसमें बह गयी बस यादों के कुछ पल शाखों पर और पत्तों पर ठहर … Continue reading

Posted in Hindi, Others, Photography, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , , , | 9 Comments

Hindi poetry: सकारात्मक रहें

रविवार के लिए विचार … (शब्द और चित्र मेरे हैं ) जिंदगी के काफ़ी सारे बोझ ज़रा सी देर के लिए होते हैं हमारे विचारों की गर्मी और सही कोशिश इन्हे पिघला देती है। पर न जाने क्यों हम इनकी … Continue reading

Posted in Hindi, Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 10 Comments

मैं, रसोई की खिड़की और चाँद

मेरे द्वारा खींची तस्वीर के लिए कुछ शब्द – मैं, रसोई की खिड़की और चाँद बड़े रौब से कहे कि तनहा है वो रसोई की खिड़की से झाँक कर चाँद चुगली कर गया। -रुपाली

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | Leave a comment

शौक फरमाइए

लिखने की तमन्ना में सब इंतजामात किये फिर कभी यहाँ तो कभी वहाँ बैठे, ख़यालों के समंदर में रवानी थी काफी लफ्ज़ों की कश्ती भी चलती रही बाकी, लहरों की तरह ख़्याल टकराये पर कसम ले लो, हम एक लफ्ज़ भी न … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | 7 Comments

Shayari: “कल और आज”

नए घर की देहलीज़ लाँघ रही बहू से सास ने कहा बहू पीहर का सब बाहर ही छोड़ आना भीतर न लाना हमारे घर के अपने रिवाज़, अपने तौर तरीके हैं . झुकी नजरों से सास की एक हलकी सी झलक लेते … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 2 Comments

Art in reflection (a series) – 10

Water reflects present; neither past nor future; there resides beauty  

Posted in Art in Reflection, Haiku, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 12 Comments

Shayari – चित्र लेखन

मेरे द्वारा खींची तस्वीर के लिए कुछ शब्द…

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 3 Comments

Mother’s Day Special: माँ भी इंसान है

“माँ”  पर अनगिनत रचनायें रची गयी हैं।   आमतौर माँ  को देवी कहा जाता है या काफी स्टिरिओटाइप बताया जाता है।  लेकिन,   मेरी सोच कुछ अलग है, मेरे लिए माँ एक इंसान है।  शायद इस प्रयास में पद्य की बजाय गद्य ही … Continue reading

Posted in Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , | 3 Comments