Tag Archives: Words

Apology

Willy-nilly Things have come up, on professional and home ground, keeping me on toes. Expecting your support. Soon will appear in your comment section 🙂

Posted in Daily Prompt, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 14 Comments

Happy to amble

The sand, the water, the geography doesn’t matter If I can amble on a peaceful morning. My first attempt to participate in Daily Prompt

Posted in Daily Prompt, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , | 18 Comments

“बूँद” (Tiny raindrops)

मेरे द्वारा खींची एक और तस्वीर के लिए कुछ शब्द – “बूँद” उसकी याद में आसमां फट पड़ा पूरी तरह खाली हो गया सारी बातें, सारी कसमें बह गयी बस यादों के कुछ पल शाखों पर और पत्तों पर ठहर … Continue reading

Posted in Hindi, Others, Photography, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , , , , | 9 Comments

शौक फरमाइए

लिखने की तमन्ना में सब इंतजामात किये फिर कभी यहाँ तो कभी वहाँ बैठे, ख़यालों के समंदर में रवानी थी काफी लफ्ज़ों की कश्ती भी चलती रही बाकी, लहरों की तरह ख़्याल टकराये पर कसम ले लो, हम एक लफ्ज़ भी न … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , | 7 Comments

Shayari: “कल और आज”

नए घर की देहलीज़ लाँघ रही बहू से सास ने कहा बहू पीहर का सब बाहर ही छोड़ आना भीतर न लाना हमारे घर के अपने रिवाज़, अपने तौर तरीके हैं . झुकी नजरों से सास की एक हलकी सी झलक लेते … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 2 Comments

Art in reflection (a series) – 10

Water reflects present; neither past nor future; there resides beauty  

Posted in Art in Reflection, Haiku, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | 12 Comments

दस्तक़

उनकी आज़माइशों पर उतरना छोड़ दिया मैंने, यू  कहे सुकून से जीना सीख़ लिया मैंने।  मेरे दिल के दरवाज़े अभी भी खुले हैं, बस उनके दरवाज़े पर दस्तक़ देना छोड़ दिया मैंने।  Unki ajmaisho par utarna chhod diya meine, yu kahe … Continue reading

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 4 Comments

A moment

Savour, until the doors are open.

Posted in Others, Uncategorized | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

खातिर

तुम्हारी खातिर और एक बार बिख़रने को तैयार हूँ मैं, पर उसके लिए पहले खुद को समेटना जरूरी है।  Tumhari khatir aur ek baar bikharne ko taiyar hoon mein, par uske liye pahale khud ko sametna jaruri hai.

Posted in Hindi, Uncategorized | Tagged , , , , , , | 2 Comments

Art in reflection (a series) – 8

A unique bench people sit here everyday see reflection or dream.

Posted in Haiku, Uncategorized | Tagged , , , , , , , , | 12 Comments