Random 27: Revealing

Revealing

I can be a pillow, shed a tear or two in pain.

I can be a gentle breeze, feel happy in vain.

I offer you my shoulder to lean.

But

I refuse being

part of the crowd,

just a cheerleader.

******

उसको ग़म में मेरी मौजूदगी गवारा न थी,

बहारों में मैंने उसका साथ छोड़ दिया 

******

क्या है मेरा पता…

बरसों बाद आज किसी ने मुझसे मेरा पता पूछा,

एक ज़माने में जो लिफाफों पे हुआ करता था।

ना रहे लिफाफे, न वो लाने वाले,

पता याद रखने का सबब बचा ही नहीं।

-रुपाली

sher_29nov18

 

दरवाज़ा

काफी अरसे  बाद लिखने की कोशिश…

sher_18july18

बेगानों के दरवाजों तक छोड़ने आते हो,

अरे नादान

अपने दिल का दरवाज़ा तो खोल

थक गए हम लोगों के घरों तक जाते।।

-रुपाली