खुशमिजाजी!

मेरे द्वारा खींची तस्वीर के लिए कुछ शब्द-

काम के तो न हम कल थे, न आज हैं।

खुशमिजाजी यूं ही तो बरकरार नहीं रहती।

-रुपाली

(ये तस्वीर मिनिमल (न्यूनतम – जिसमे आपका विषय कम से कम दिखयी दे )फोटोग्राफी दर्शाने के लिए खींची थी)

kavita_04sep17.jpg